“जनता के सहयोग से ही व्यवस्था का विकास संभव हो सकता है “ – राजेश गहलौट


उप महापौर, सदस्य डीडीए की भूमिका बखूबी निभाने के बाद अब स्थाई समिति के अध्यक्ष श्री राजेश गहलौट को भला कौन नहीं जनता। पिछले दिनों हरदिल अजीज श्री गहलौट ने हमारे प्रबन्धक संपादक एस. एस. डोगरा से मुलाक़ात हुई। आपके समक्ष प्रस्तुत है बातचीत के प्रमुख अंश:

स्थाई समिति के अन्तर्गत कौन से मामले आते हैं?
स्थाई समिति में नई योजनाएँ, टेण्डर आदि आते हैं तथा आर्थिक मामलें निपटाएँ जाते है।

साउथ वेस्ट में कौन-कौन से इलाके व कितने निगम पार्षद आते हैं?
इसके अन्तर्गत नजफ़गढ़, वेस्ट जोन, दक्षिणी व केन्द्रीय इलाके आते हैं। इस पूरे इलाके के 104 निगम पार्षद हैं।

आप से कई नेता नाराज भी हो जाते हैं कि आप उनके क्षेत्र में भी अपनी अधिक सक्रियता रखते हैं।
मैंने पूर्व मुख्यमंत्री दिल्ली सरकार व सांसद रहे डॉक्टर साहिब सिंह वर्मा के नेत्रत्व में एक कर्मठ कार्यकर्ता के रूप में काम किया। वही जनून आज भी कायम है। यदि क्षेत्र में काम करने का मौका मिला है ईश्वर ने यदि मौका दिया है तो उसे बखूबी निभाना चाहिए। मैंने हमेशा ही पार्टी को प्रमुखता दी है। सभी क्षेत्र में सक्रियता के अलावा कार्यकर्ता, विधायक, निगम पार्षद, गैर सरकारी संस्थान, आदि के कार्यक्रम में जाता हूँ और सहयोग भी करता हूँ।

भावी योजनायो के बारे में बताएं?
द्वारका में सफाई व्यवस्था को सुधारने के लिए सैक्टर-6 व सैक्टर-10 मार्केट से मुहिम शुरू की जाएगी। अब किसी निजी संस्थान को काम न देकर दिल्ली नगर निगम खुद करेगी। इस कार्य के लिए 15 नए टेम्पो व 15 नये ट्रक लगाए जाएंगे। प्रतेयक सोसियटी में ड्रम रखा जाएगा। N.G.O. RWA. Association आदि को जोड़कर इस कार्यक्रम को सफल बनाना है।

सम्पत्ति कर जमा करवाने के लिए कुछ विशेष प्रावधान किए जा रहें हैं?
सम्पत्ति कर जमा करवाने के लिए सैक्टर-9 में दो-तीन महीने में कार्यालय खोलने की योजना है। साल के अंत तक सैक्टर-11, में कार्पोरेशन बिल्डिंग एक ज़ोनल ऑफिस को स्थापित किया जाएगा । Trade Licensing प्रणाली को भी सरल बनाया जाएगा।

आगामी योजनाओ के तहत दिल्ली दो कूड़ा रहित करने के प्रयासों का खुलासा करें?
ओखला में बिजली पावर प्लान्ट को दो-तीन वर्षों के भीतर शुचारु रूप से चलकर कूड़ा रहित दिल्ली कर दिया जाएगा ।

10,000 घर पर एक गाड़ी का इंतजाम किया जाएगा कूड़ा डोर टू डोर इक्कठा किया जाएगा । नए शोचालयों का निर्माण, चोराहे साफ सुधरे, भीड़-भाड़ के इलाके में urinal व toilets बनाने की योजना है।

सम्पत्ति कर को सहज बनाने के लिए क्या प्रयास किए जा रहे हैं?
सम्पत्ति कर जमा करवाने के लिए सुगमता लाने के उद्देश्य से unique code number प्रदान किए जाएगे। इसके तहत पूरी दिल्ली की प्रत्तेक  सम्पत्ति को एक unique code number प्रदान किया जाएगा।

प्रशासन को सही रूप से चलाने के लिए जनता से क्या उम्मीद की जाती है?
इन सब योजनायो के लिए जनता का सहयोग चाहिए, जनता के सहयोग से ही व्यवस्था का विकास संभव हो सकता है।

Leave a Reply