संजय दत्त का साथ एक सौभाग्य की बात: बाबी गिल


बॉलीवुड अभिनेता बाबी गिल अनेकों फिल्मों में अपने अभिनय के रंग बिखेरने के बाद में एक बार फिर से संजय दत्त के साथ फिल्म ‘जिला गाजियाबाद’ में नजर आएंगे। एक सच्ची कहानी  पर आधारित ‘जिला गाजियाबाद’एक ईमानदार पुलिस अफसर की कहानी पर आधारित है फिल्म में एक दमदार रोल में बाबी गिल भी है। उनका कहना है कि ‘संजय दत्त के साथ काम करना एक सौभाग्य की बात है।’ हाल में ही उनसे मुलाकात हुई और उनका अपनी इस बहुचर्चित फिल्म ‘जिला गाजियाबाद’ के बारे में क्या कहना है प्रस्तुत है उसी मुलाकात के चुनिंदा अंश:


किस प्रकार का किरदार है फिल्म में ?
एक सत्या घटना पर आधारित इस फिल्म में, मंै एक ईमानदार निर्भीक पुलिस अफसर के किरदार में हॅू। यूं कहे कि यह अपने आप में चैंलेजिग किरदार है। यह फिल्म 22 जुलाई को रीलिज हो रही है।
अपने रोल के साथ में कितना न्याय कर पाये ?
मैने किरदार के साथ में पूरा न्याय करने का प्रयास है, फिल्म की शूटिंग के पहले दिन मैं अपने सीनियर संजय दत्त के साथ डायलॉग बोलने में हड़बड़ा गया था, क्योंकि मैंने इस तरह का रोल पहले कभी नहीं किया था। अब सब नॉर्मल हो गया और मैं एंजॉय कर रहा हूँ । रोल में कई शेड्स है, संजय दत्त, अरसद वारसी और विवेक ओबराय के साथ सीन करते हुए अपनी प्रतिभा को दिखाने का पूरा मौका मिला।

फिल्म में संजय दत्त और अरसद वारसी जैसे मंझे कलाकार भी है,आपको नही लगता की इनके सबके रहते आपका टैलेंट दब कर रह जायेगा?
नही। फिल्म में मेरे अधिकांश सीन संजय दत्त के साथ है, इसके अलावा अरसद वारसी और विवेक के साथ भी सीन है। लेकिन मुझे कही नहीं लगा कि मुझे टैलेंट दिखाने का मौका नही मिला। मेरा मानना है कि संजय दत्त के साथ काम करना सौभाग्य की बात है। इसमें दो राय नही कि अरसद वारसी,विवेक ओबराय और संजय दत्त के साथ में कई फिल्में कर चुके है, उनके साथ काम करने का मेरा अनुभव नया रहा है।


फिल्म की थीम क्या है?
यह एक अपराध सरगनाओं बेस फिल्म है। एक दौर था जब पश्चिमी  उतर प्रदेश में आंतक फैलाने वाले फौजी से गैंगस्टर बने महेन्द्र बैंसला ( असरद वारसी) और सतबीर गुर्जर( विवेक ओबराय) की आपसी दुश्मनी और पुलिस अफसर ठाकुर प्रीतम सिंह चौहान  किस प्रकार से इन लोगों के आंतक से शहर को मुक्त कराते है, यही कहानी फिल्म की।
आनंद कुमार इस फिल्म को किस नजर से देखते है?
फिल्म कमाल की है। निर्देशक आनंद कुमार ने इसे बेहतर तरीके से पेश किया। फिर सारे कलाकारों की मेहनत ने फिल्म को सफल बनाया। मैं खुश हूं और आगे के प्रोजेक्ट पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं।

अभिनय की दुनियां से कैसे जुडे ?
एम टीवी टैलेंट हंट ‘कितनी मस्त है जिंदगी’से टालीवुड में कदम रखे और इसके बाद में कसम से,काजल,अदालत,नमक हराम जैसे टीवी षोज्स में अभिनय किया। इसके साथ ही कई विज्ञापन फिल्मों से भी काम करने का मौका मिला। वर्तमान में एक पंजाबी फिल्म भी कर रहा हॅू ।

Leave a Reply