डायरी के पन्नो से कुछ सुनहरे पल

आज दोपहर को मुझे मेरी कवियत्री मित्र कीर्ति काले(राष्ट्रीय कवियत्री) के घर जाने का मौका मिला, कीर्ति जी से तो कई बार मुलाक़ात हुई थी लेकिन सौभाग्यवश उनके पतिदेव श्रद्धेय श्रीकांत काले जी से भी कुछ गपशप हुई। इसी दौरान स्वादिष्ट भोजन भी किया और बातों का दौर शुरू हुआ। आपने यह तो सुना होगा कि हर सफल नर के पीछे एक नारी का हाथ होता है, लेकिन आज मैंने पाया कि एक सफल नारी की सफलता के पीछे नर का भी हाथ होता है। और इसका जीता जागता उदाहरण पेश कर रहें है कीर्ति जी के पति श्रीकान्त जी। वे सरकारी अधिकारी होने के साथ-साथ एक गंभीर व सभ्य इन्सान भी हैं। आज कीर्ति जी की बुलन्द कविताएं देश ही नहीं बल्कि विदेशों में भी न जाने सैंकड़ों-हजारों काव्य मंच पर गूँजती रहती हैं। लेकिन इसका श्रेय उनके पति श्रीकान्त को जाता है जिनकी प्रेरणा की ही बदौलत कीर्ति जी ने अपने वैवाहिक जीवन को बखूबी निभाते हुए खूब शोहरत हासिल की। कीर्ति जी आज राष्ट्रीय स्तर पर बेहद लोकप्रिय कवियत्री के रूप में देश-विदेश में अपने आपको स्थापित करने में कामयाब रहीं हैं। ईश्वर उन्हे दीर्घायु दे ताकि वे अपनी प्रतिभा को श्रोताओं के समक्ष प्रस्तुत करने में और अधिक सक्रिय साबित हो सके।

(एस. एस. डोगरा-सम्पादक द्वारका परिचय समाचार पत्र)

निवेदन: आप भी अपने जीवन में कुछ यादगार पलों को हमारे पाठकों के संग शेयर करना चाहे, तो आपका स्वागत हैं। आप अपने अनुभव निम्न पते पर अथवा ईमेल के माध्यम सेinfo@dwarkaparichay.com प्रेषित करें।

301, प्लॉट न. 9, तीसरी मंजिल, विकास सूर्या गैलेक्सी, सेंट्रल मार्किट, सैक्टर-4, द्वारका, नई दिल्ली-110075

नोट: यदि आपको हमारा समाचार पत्र नहीं मिला तो आप उक्त लिखित पते पर स्थित हमारे कार्यालय से प्राप्त कर सकते है। किसी भी असुविधा के लिए, हमारी प्रशासनिक अधिकारी कुमारी नेहा से फोन न. 25075555 व 25075551 पर संपर्क करें। धन्यवाद । 

Leave a Reply