शालीमारबाग में विशाल रक्तदान एवं निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन

रक्त सेवा समिति (पंजी) ने भारत विकास परिषद् शालीमार बाग शाखा एवं भारत लोक शिक्षा परिषद के सहयोग से अपने चतुर्थ वार्षिकोत्सव के अवसर पर पंजाबी भवन, शालीमार बाग में विशाल रक्तदान एवं निः शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया। शिविर में करीब 147 लोगों ने रक्तदान किया एवं करीब 400 लोगों नें मधुमेह, स्त्री रोग, श्वांस, ह्रदय एवं हड्डी से सम्बंधित रोगों की जाँच करवायी। इस दौरान विधायक श्री रविन्द्र बंसल, पूर्व महापौर एवं भारत विकास परिषद् दिल्ली प्रदेश उत्तर के मुख्य संरक्षक श्री महेश चंद्र शर्मा, भाविप के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री भूपेन्द्र मोहन भंडारी, भाविप दिल्ली प्रदेश उत्तर के अध्यक्ष श्री राजकुमार जैन, वरिष्ठ उपाध्यक्षा श्रीमती रश्मि गोयला, निगम पार्षद श्रीमती ममता नागपाल, भाविप दिल्ली प्रदेश उत्तर के महासचिव श्री संजीव मिगलानी, कोषाध्यक्ष श्री बी.बी. दिवान सहित बड़ी संख्या में अन्य गणमान्य मौजूद रहे ।

भारत विकास परिषद् दिल्ली प्रदेश उत्तर के अध्यक्ष श्री राजकुमार जैन ने लोगों को रक्तदान के प्रति प्रेरित करते हुए कहा कि मनुष्य के रक्त का अभी तक कोई विकल्प नहीं है इसलिए निःसंदेह रक्तदान श्रेष्ठतम दान है। यह दान सभी तीर्थों, यज्ञों तथा धार्मिक आयोजनों से महान है। अतः हमें समय-समय पर रक्तरुपी महादान करते रहना चाहिए। रक्तदान का शरीर पर कोई कुप्रभाव नहीं है ,बल्कि वैज्ञानिक दृष्टि से यह शरीर के लिए आवश्यक एवं ह्रदय आदि रोगों से सुरक्षा प्रदान करता है। शिविर के दौरान डॉ. सुनील खेत्रपाल के मार्गदर्शन में अनुभवी डॉक्टरों की टीम ने लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया एवं लायंस ब्लड बैंक के विशेषज्ञ डाक्टरों की टीम ने दानदाताओं से रक्त इकठ्ठा किया।
इस अवसर पर चित्रकला प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया, जिसमें करीब 500 बच्चों ने अपनी उत्कृष्ट कला प्रतिभा का प्रदर्शन किया। विजेता प्रतिभागियों को आकर्षक पुरस्कार प्रदान किया गया। शिविर के आयोजन में रक्त सेवा समिति के अध्यक्ष श्री मुकेश गुप्ता, महासचिव श्री हेमंत अनेजा, भारत विकास परिषद् ,दिल्ली प्रदेश उत्तर की शालीमार बाग शाखा के अध्यक्ष श्री अनिल शर्मा, सचिव श्री रजनीश कपिला एवं कोषाध्यक्ष श्रीमती रेणुका तथा भारत लोक शिक्षा परिषद के अध्यक्ष श्री नरेश जैन, श्री सत्य नारायण बंधु आदि की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Leave a Reply