फ्लाप फिल्में कुछ नया करने की प्रेरणा देती है: सोनम कपूर


प्रेम बाबू शर्मा  

बालीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर ने सांवरिया, दिल्ली 6, आई हेट लव स्टोरी,थैक्यू ,मौसम और आयशा फिल्मों में काम किया लेकिन ये सभी फिल्में बाक्स आफिस पर खास चमत्कार नही कर पायी। इस सबके बाद भी सोनम युवा दर्शकों पंसद हैं। उन्हें इडास्ट्री की चमत्कारिक अभिनेत्री कहा जाता है। तीन बडे अंतर्राष्ट्रीय एंड्रोर्समैंट में उनका आना इसी का संकेत है। इन दिनों सोनम काफी खुश है क्योंकि उनकी दो फिल्में इन दिनों खुश है उनकी दो फिल्म ‘रांझना’ और ‘भाग मिल्खा भाग’ रीलिज के लिए तैयार है। हाल में ही उनसे बात हुई पेश है अंशः


आप सबसे पहले अपनी फिल्म ‘रांझना’ के बारे में बतायें ?
आनंद राय निर्देशित यह रोमांटिक फिल्म है। जिसमें मेरे अपोजिट धनुष है। फिल्म में मैंने जोया हैदर किरदार को जिया है। जिया स्कूल में पढती है और उसके चाहने वालों की एक लंबीलिस्ट हैं लेकिन जिया कुंदन को प्यार करती है। इस फिल्म को लेकर मैं काफी उत्साहित हूँ  फिल्म में मेरी और धनुष की रोमांटिक जोडी को दर्शक याद रखेगें। निर्देशक आनंद राय कमाल के और अनुभवी डारेक्टर है उनके काम करने के तरीके से मैं प्रभावित रही हूँ। वह कलाकारों से काम लेना जानते हैं।

फिल्म में क्या खास है ?
‘रांझना’ दो युवाओं की प्रेम कहानी है और फिल्म मे मेरा किरदार अब तक अभिनीत फिल्मों की लीक से हटकर है मुझे उम्मीद है कि दर्शको को मेरा नया रूप भी पंसद आएगा।
फिल्म में धनुष के साथ टयूनिंग कैसी रही ?
धनुष दक्षिण भारत की कई फिल्मों में काम करने बाद में अब हिन्दी फिल्मों अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। वे गजब के अभिनेता है मेरा उनके साथ करने का अच्छा अनुभव रहा।
आप एक अन्य फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ भी कर रही है?
जी हाँ। राकेश ओमप्रकाश निर्देशित यह फिल्म ख्याति प्राप्त धावक मिल्खा सिंह की जीवनी पर आधरित है । फिल्म में मेरे आपोजिट फरहान अख्तर है। यह फिल्म भी रीलिज की तैयारी में है और मैने फरहान की प्रेमिका के किरदार को निभाया है।

बीते साल में फिल्म मौसम से आपको खासी उम्मीद थी, अब रांझा को लेकर क्या सोचती है?
अच्छी कहानी और दमदार रोल के बाद मौसम दर्शकों की कसौटी परखरी नही उतरी । लेकिन ‘रांझना’ युवाओं को ध्यान में रखकर बनाई और मुझे उम्मीद है कि फिल्म हिट होगी।

फिल्म थैक्यू में अक्षय जैसे मंझे कलाकार के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?
अक्षय के साथ करते हुए अच्छा ही लगा बल्कि उनसे काफी कुछ सीखने को मिला है। वह अपने जुनियरों का हौसला बढाते हुए उनकी मदद करते है। जबकि इससे पूर्व में मैंने फिल्म सांवरिया में सलमान खान के साथ भी काम किया था।


फिल्मों कम नजर आती है,इसकी कोई खास वजह ?
मैं  कम किन्तु अच्छी फिल्मों चयन करती हूँ जिससे निर्माताओं को डेटस देने में भी दिक्कतें नही आती है।

लगातार फिल्मों की अफलता से कुछ सीख मिली ?
आयशा, थैक्यू, मौसम,आई हेट लव स्टोरी,सांवरिया और दिल्ली 6 ये सभी फिल्में अच्छी बनी थी। इन फिल्मों में मैने एक कलाकार होने के नाते हमने अच्छा काम भी किया और दूसरी फिल्मों में उससे कुछ अलग हट कर काम करने की प्रेरणा भी मिली कि आप जब भी कोई काम करते है उस दौरान आपको काफी कुछ नया सीखने और करने का मौका मिलता है। लेकिन मैं आपको बताना चाहूंगी सांवरिया ने भले ही दर्शकों को निराश किया हो, लेकिन फिल्म में मेरे रोल के कारण ही मुझे कई अवार्ड का सम्मान मिला था।

चर्चा है कि आप हालीवुड की फिल्में भी कर रही थी लेकिन आपके पिता इसके विरोधी थे ?
मेरे पिता के पास बालीवुड का अनुभव है और उनका निर्णय मेरे हित में होगा। इसलिए वो मेरे आने वाले कल को देखते हुए ही अपनी राय देते है। इसे आप विरोध नही कह सकते।

Leave a Reply