भारतीय क्रिकेट अंडर-19 के दमदार बल्लेबाज अंकुश बैन्स, माउन्ट आबू स्कूल द्वारा सम्मानित

सुरेन्द्र सिंह डोगरा 

नई दिल्ली, 15 जुलाई, 2013। भारतीय क्रिकेट अंडर-19 के दमदार बल्लेबाज अंकुश बैन्स को उसी के स्कूल माउन्ट आबू स्कूल ने एक भव्य समारोह के अंतर्गत सम्मान्नित किया गया। इस समारोह में बी. सी. सी. आई. के संयुक्त सचिव व हिमाचल प्रदेश क्रिकेट संघ के अध्यक्ष(सांसद) श्री अनुराग सिंह ठाकुर ने बतौर मुख्य अतिथि के रूप में अंकुश को प्रतीक चिन्ह भेंट कर बधाई दी। इस मौके पर स्कूल के अध्यक्ष श्री डी. एन. अरोड़ा, प्रधानाचार्या सुश्री ज्योति अरोड़ा व निदेशक श्री भारत अरोड़ा, वरिष्ठ खेल पत्रकार प्रविन्द्र शारदा, क्रिकेट कोच संजीव पहूजा, श्री श्रवण कुमार, अंकुश के पिता श्री करतार सिंह व माता श्रीमति कुसुम, समेत रिश्तेदार व कुछ स्कूल के ही साथी खिलाड़ी भी मौजूद थे। अंकुश के साथी खिलाड़ी गर्वित बजाज ने अंकुश पर भावुक कविता सुनाकर उपस्थित जनसमूह का मन मोह लिया।

नई दिल्ली में भारतीय अंडर -१९ टीम के खिलाडी अंकुश बैंस का सम्मान करते हिमाचल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर साथ मेंअंकुश के स्कूल प्रबंधक भारत अरोड़ा एवं ज्योति अरोड़ा
मुख्य अतिथि श्री अनुराग ठाकुर ने अपने सम्बोधन में हिमाचल प्रदेश राज्य सन 2000 में राज्य क्रिकेट संघ की बागडौर संभालने तथा उस समय की विपरीत स्थितियों पर प्रकाश डाला। आज राज्य में क्रिकेट खेल सुविधायों पर लगभग 24करोड़ रुपए सालाना खर्च का जिक्र करते हुए दावा किया कि इतना बजट तो पूरी हिमाचल सरकार का भी नहीं। उन्होने विश्व के सबसे खूबसूरत धर्मशाला स्टेडियम की स्थापना व वर्तमान लोकप्रियता का उल्लेख किया। उन्होने इस बात पर भी गर्व जताया कि अंकुश ने हिमाचल राज्य का नाम रोशन किया है। और अंकुश को सुझाया कि यदि वे भी भारतीय टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव, महानतम खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ व अनिल कुंबले की तरह मेहनत व अनुशाशन का पालन करेंगे तो वे एक दिन अवशय ही भारतीय वरिष्ठ क्रिकेट टीम में भी जगह बनाने में कामयाब हो जाएंगे। पिता श्री करतार सिंह, माता श्रीमति कुसुम व मौसेरे भाई संजीव हीर को अंकुश के हाल ही में आस्ट्रेलियाई दौरे पर उम्दा परदर्शन पर गर्व है तथा आगामी श्रीलंका दौरे पर और अधिक अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद जताई। जबकि अंकुश ने द्वारका परिचय से बातचीत करते हुए बताया कि वह आगामी दौरे के बारे में ज्यादा नहीं बोलना चाहता। वह केवल अपने बल्लेबाजी व विकेट कीपिंग में श्रेष्ठ देने के लिए एकाग्र होकर खूब अभ्यास में जुटा हुआ है। 
इस तरह के सार्वजनिक सम्मान के बाद और अधिक जिम्मेदारीपूर्ण उम्दा परदर्शन देने के लिए गंभीर हो गया है। वहीं स्कूल की प्रधानाचार्या सुश्री ज्योति अरोड़ा ने भी साक्षात्कार देते हुए बताया कि अंकुश उनके स्कूल में पाँचवी कक्षा से पढ़ रहा है वह शुरू से ही अपने क्रिकेट खेल में सर्वोत्तम देने में सदा आगे रहा है। सुश्री अरोड़ा को अंकुश की मेहनत व लगन पर पूरा भरोषा है कि वो दिन दूर नहीं जबकि हमारा अंकुश भारतीय वरिष्ठ क्रिकेट टीम में स्थायी स्थान बना लेगा।

Leave a Reply