Message received for “FRIENDSHIP DAY”

आत्मा से आत्मा का मिलन ही सच्ची मित्रता का प्रतीक है। 

-सुरेन्द्र सिंह डोगरा

ssdogra@journalist.com 

जनाब आपको मालूम ही होगा कि आज फ्रेंडशिप डे यानि मित्रता दिवस है। यह अगस्त माह के पहले रविवार को मनाया जाता है। वैसे इसके प्रचलन का श्रेय पश्चिमी सभ्यता को ही जाता है। इसकी शुरुआत सन 1935 में अमेरिका से हुई। इसकी शुरुआत छोटे से आयोजन से हुई थी मगर आज इसकी लोकप्रियता की धूम पूरे जहाँ में गूँजती है। आज इसकी लोकप्रियता बढ्ने का कारण है विश्व एकीकरण। आज इंटरनेट का युग है जिसने पूरे जगत को लेपटोप व मोबाइल के माध्यम से एकदूसरे को बिलकुल करीब पहुंचा दिया है। जिसकी वजह से ही यह दिवस, पूरे विश्व में, अन्य समारोह की तरह बड़े ही उत्साह से मनाया जाता है। इसकी महत्वता इसलिए भी बढ़ी है क्योंकि हर किसी के जीवन एक सच्चे मित्र का एक विशेष स्थान होता है। इसको मनाने के भी कई तरीके हैं जैसे अपने दोस्त को मनपसंद उपहार, ग्रीटिंग कार्ड, फूल व विशेष रूप से फ्रेंडशिप बैंड का आदान प्रदान बेहद लोकप्रिय है।

आजकल इस दिन को कुछ फ्रेंड मिलकर पुराने संबंधो को पुनः स्थापित करने के लिए पार्टी का आयोजन भी करते हैं। जनाब इस सूचना प्रोधोयोगिकी की दुनिया में, कोई भी किसी से दूर रहना ही नहीं चाहता है। वह, अपने दोस्तों को अन्य अवसरों की भांति ही ऐसे मौके पर, मोबाइल के माध्यम से एसएमएस के जरिये व बतियाकर, ईमेल, इग्रीटिंग, चेटिंग, फेसबुक आदि से एक दूसरे से संपर्क साधने के लिए सक्षम है। विभिन मौके की तरह फ्रेंडशिप पर कई बेहतरीन संदेश भेजकर आप अपने प्रिय दोस्त को भावनात्मक रूप से दिल जीतने में कामयाब हो जाते हैं इससे आपको एक अलग ही सुकून प्राप्त होता है जिसका अंदाजा सिर्फ दो दोस्त ही अच्छे से लगा सकते हैं।

मित्र को दोस्त, फ्रेंड, यार, कुछ भी कहें मित्र तो मित्र ही होता है। यही सच भी है कि सच्चा मित्र आपके सबसे करीब होता है। कुछ लोगों का मानना है कि हर वह वस्तु जो प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से आपको शारीरिक, मानसिक अथवा आर्थिक लाभ के अलावा ज़िंदगी के अहम मौकों पर आपका साथ निभाने में सदा आपका साथ निभाए वही आपका अच्छा दोस्त होती है। कोई अपनी माँ, पिता, भाई, बहिन, पति, पत्नी, बेटा, बेटी, प्रेमी, प्रेमिका या अन्य किसी रिश्ते में मित्र की झलक देखता है। 


जनाब मित्र की क्या परिभाषा है? दोस्ती में न कोई अमीरी होती है न कोई सेक्स, न उम्र व न कोई जाति का बंधन होता है। इसमें सिर्फ आत्मा से आत्मा का मिलन होता है। महाभारत काल में, भगवान श्री कृष्ण व सुदामा की दोस्ती के किस्से, हीर व रांझा का प्यार आज भी चर्चित हैं। ।

इसके अलावा आपके पालतू जानवर, आपसे संबंध रखने वाली रोज़मर्रा की आवशयक वस्तुएँ भी इसी श्रेणी में आती हैं। ये सभी आपके जीवन के अभिन्न अंग हैं। जी हाँ यह चौंकने का विषय नहीं है आपके इंसान के अलावा पालतू जानवर व निर्जीव वस्तुयों जैसे कुर्सी, बिस्तर, वाहन, घर, कार्यालय तथा अन्य रोज़मर्रा की वस्तुओं से अनायास ही लगाव बोले या दोस्ती हो ही जाती है। आपने देखा होगा कि किसी व्यक्ति का कुत्ता व बिल्ली खो जाए अथवा उसकी मृत्यु हो जाए तो वह कितना विचलित हो जाता है। कुर्सी का लगाव तो जग जाहिर है इसके लगाव से तो अच्छे-अच्छे विद्वान भी नतमस्तक हो जाते हैं।अब विषय यह है कि अपने दोस्तों से मधुर संबंध कैसे बनाएँ रखे जाएँ। जी हाँ, अच्छे दोस्तों को जीवन भर साथ लेकर चलना है तो हमें एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करनी होगी। दोस्ती में औपचारिकता का कोई स्थान नहीं होता है। यह तो दिल से दिल का नाता है, जो खुदा अपने घर में ही बनाता है।

प्रिय दोस्तों, हमें मित्रता दिवस के उपलक्ष्य में आपके विचार प्राप्त हुए। हमें बड़ी खुशी है कि आपने बड़े उत्साह पूर्वक ढंग से उक्त विशेष दिन पर अपने निम्नलिखीत बहुमूल्य अनुभवों को हमारे साथ साझा किया। 

************************************************

द्वारका परिचय परिवार के संग जुड़े सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाओं सहित–

मित्रों संग जीते रहें , नित फूले यह प्यार,
मित्र मित्र का साथ दे , सुखमय हो संसार.
–अशोक लव

***************************************************

मित्र परिवार के सदस्य के समान होता है, वह आत्मबल देता है 
-जावेद अहमद (फिल्म पत्रकार व पटकथाकार)
मस्ती टी. वी. चैनल मुंबई 

1 मित्र की क्या परिभाषा होती है?
मित्र : आपसी विश्वास, प्रेम, सहयोग और संवेदनशीलता पर आधारित संसार का सबसे बड़ा व प्यारा-सा रिश्ता है।

2 आप मित्र किसे मानते/ समझते हैं?
मित्र वह है, जो आजादी से दिल खोलकर बात करे, नेक सलाह दे, मदद करे, सब कुछ धैर्यपूर्वक रक्षा करे और हमेशा दोस्त बना रहे

3 आपके कितने मित्र हैं?
मित्र तो सैकड़ों है पर सच्चे मित्रो की गिनती करे तो लगभग एक दर्जन

4 आप मित्र दिवस को कैसे मनाते हैं?
मित्र दिवस मानाने के लिए किसी खास दिन की ज़रूरत नहीं होती, जिस दिन मित्र से मुलाक़ात हो वही मित्र दिवस बन गया

5 आप मित्रता को मधुर सम्बन्धों से कैसे बनाए रखते हैं?
एक दुसरे की भावनाओ को सम्मान दे कर और सुख दुःख में सहभागी बन कर

6 आपकी अच्छी मित्रता व इसके फ़ायदों पर प्रकाश डालें?
मित्रता फायदे के लिए नहीं की जाती, मित्र परिवार के सदस्य के समान होता है, उसका साथ आत्मबल देता है


*****************************************************
उनकी रूह, उनकी सांसो में दोस्ती हमेशा साथ होती है।

दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जो मामूली घटनाओं और यादों को भी खास बना देता है। हमारे जेहन में ऐसे बहुत से पलों को ताउम्र के लिए कैद कर देता है। जो वापिस तो कभी नहीं आते पर हाँ जब भी आप अपने पुराने दोस्तों से मिलते हैं तो अब उन बातों को याद कर जरूर हँसते होंगे। बेशक आज की ‘बिजी लाइफ’ के चलते दोस्त रोज मिल नहीं पाते लेकिन दिल से दूर नहीं होते हैं, उनकी रूह, उनकी सांसो में दोस्ती हमेशा साथ होती है।

मेरी ओर से अपने सभी साथियों को ‘हैप्पी फ्रेंडशिप डे’।

सुनील सौरभ

Bussiness Editor-Swabhiman Times
(फेसबुक के माध्यम से प्राप्त)
*****************************************************

Try and reach them when they are in trouble

Q :What is the meaning of friendship?
A : Hindi Mein Dosti ha ha !!
Q : Whom Do you consider your friend ?
A :Biggest well-wishers are your biggest friends.
Q : How many friends do you have ?
A :I have millions of well-wishers so they are all my friends,
Q : How do you celebrate it ?
A : I celebrate friendship day by remembering all my friends n wishing them all the very best in
Their respective lives coz’ some of them may not be physically with me but always in spirit……
Q : How do you maintain Friendship ?
A: Well on Fb n twitter by posts or texts or any social site for that matter, or by emails, n if ppl are around then meet them frequently, especially if they need me. Try and reach out to them when they r in Any problem. Try n attend their celebrations etc.

A friend in need is a friend Indeed … These are my views !!’
It’s an old saying but appropriate I feel …
Thx n wish u all a very happy friendship day.
Love n hugzzzz


Tinaa Ghaai 
Bollywood Actress
Via email from Mumbai
*****************************************************

मित्र हमारी ज़िंदगी की अनमोल धरोहर के समान होते हैं।


ईश्वर कुछ खूनी व जन्म से रिश्ते बनाकर भेजता है जबकि दोस्त का चुनाव हम खुद करते हैं। जब कभी हम संकट में होते हैं या जब हम अकेले पड़ जाते हैं ऐसी कसौटी में केवल सच्चे दोस्त ही आपका साथ निभाते हैं। जिनके मात्र साथ खड़े होने से ही मजबूती महसूस होती है यह हमारी ज़िंदगी की अनमोल धरोहर के समान होते हैं। हमें अच्छी दोस्ती कायम रखने के लिए एक दूसरे का विशेष ख्याल रखना चाहिए। यह एक बैंक खाते की तरह है इसमें डेबिट व क्रेडिट एकसमान चलते रहने चाहिए। बतौर कलाकार मेरे बहुत से दोस्त हैं लेकिन मेरे खास दोस्तों में मात्र 4-5 ही मित्र हैं जिन्हे मैं अपने जिगरी दोस्तों की श्रेणी में आँकता हूँ। वैसे इसे मनाने के लिए हम भी पार्टी के तहत खाना-पीना व मौज मस्ती करना अच्छा लगता है।

अशोक मस्ती
पंजाबी गायक /कलाकार
मोबाइल पर हुई बातचीत पर आधारित

********************************************************

एक हाथ, जो थाम ले हर मुश्किल में ….
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
कि कोई दोस्त ऐसा हो जो सिर्फ़ तुम्हारा हो…
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
कोई अहसास हो जो सबसे ख़ास हो……
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
कोई चाहे तुम्हे भी बिना किसी गरज के ….
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
कोई मुस्कान जो सिर्फ़ तुम्हारी हो…..
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
एक हाथ, जो थाम ले हर मुश्किल मैं ….
कभी तो तुमने सोचा होगा ….
किसी का साथ, जो तुमने हमेशा चाहा…..
अगर तुम ये सब न सोचा करते……
तो हम यहाँ क्यों जिया करते…..

Happy Friendship Day to All of You….!!!


Dr. Udita Tyagi (Ghaziabad, U.P.)
National President – My Clean India
Mrs India Worldwide 2011
Mrs India International 2012
via email

*************************************************

दो सत्य जब आपस में मिलते हैं तो वो दोस्त बनते हैं।मित्र यानि दोस्त अर्थात दो सत यानि दो सत्य जब आपस में मिलते हैं तो वो दोस्त बनते हैं। जहां पर झूठ, कपट, धोखा,बेईमानी जैसे लफ्जों का कोई काम नहीं होता, वो होते हैं मित्र।

जो इंसान आपको इतनी गहराई से प्यार करता हो की आप अपना कोई दुख उसे बताएं उससे पहले वो आपका दुख जानता है।

मित्र तो बहुत कम हैं। लेकिन राजदार मित्र बहुत कम होते हैं। मेरे भी बहुत कम हैं। मैं शाम को महफिल जमाता हूँ, खाना पीना ओर गाना बजाना चलता है, खूब जशन मनाया जाता है।

अगर मुझ से कोई गलती होती है तो मैं अपने दोस्त को सॉरी बोल देता हूँ, कोशिश करता हूँ कि मेरी वजह से किसी दोस्त का दिल ना दुखे अगर मेरे दोस्त से कोई गलती होती है तो उसे बोल देता हूँ मन में नहीं रखता। इस तरह कड़वाहट पैदा नहीं रिश्ते लंबे निभ जाते हैं।

दिल से बनाए गए रिश्ते को दोस्त कहते हैं ओर जिसके पास दोस्ती की दौलत नहीं होती वो दुनिया का सबसे गरीब इंसान है। आपके दुख सुख में आप के दोस्त ही काम आते हैं इसीलिए कोशिश करिये इस रिश्ते को निस्वार्थ निभाए ओर अच्छे दोस्त को रुसवा ना होने दे मैं आज जहां भी हूँ वो दोस्तों की वजह से ही हूँ।
आशू पंजाबी 
बॉलीवुड गायक-कलाकार
गोरेगांव, मुंबई
ईमेल द्वारा

******************************************************
विशेष आभार

हम उन तमाम शुभचिंतकों व पाठकों के आभारी हैं जो समय-समय पर अपनी रचनाएँ, लेख, छायाचित्र, रिपोर्टज़, जरूरी सूचनाएँ/ जानकारियां, कार्टून, कविताएं, पत्र, विचार, सुझाव आदि हमें प्रेषित करते रहते हैं। हम, आपसे भविष्य में भी, इसी तरह के सहयोग की अपेक्षा रखते हैं।

धन्यवाद सहित

आपकी शुभ चिंतक

तमाम द्वारका परिचय टीम
Email Id: info@dwarkaparichay.com

Leave a Reply