बी-स्कूलों में हो स्टार्टअप लैब्स का विस्तार : राजकुमार जैन

दुनिया की सबसे युवा आबादी वाले देश भारत में आज तकरीबन हर क्षेत्र में होनहार युवाओं की प्रतिभा सामने आ रही है। चाहे वह देश की अर्थव्यवस्था को अपने योगदान से आगे बढाने की बात हो या फिर स्टार्ट-अप के रूप में सेल्फ-मेड एंटरप्रेन्योर बनने का अनथक सफर हो, हर फील्ड में लीडर सामने आ रहे हैं, जिनकी आंखों में सपना है एक बेहतर कल का। बस जरुरत है ऐसी प्रतिभाओं को आवश्यक सहूलियतें उपलब्ध कराने की। ऐसा कहना है अपार इंडिया ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के फाउंडर चेयरमैन श्री राजकुमार जैन का। वे करियर ऑप्शंस पत्रिका द्वारा होटल क्राउन प्लाजा, रोहिणी में आयोजित “इम्पोवेरिंग फ्यूचर एंटरप्रेन्योर” कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे।
श्री जैन ने कहा कि देश के युवाओं में नए कारोबारी विचारों की कमी नहीं है। उनमें उन विचारों को मूर्त रूप देने की भी भरपूर क्षमता है। जरुरत है उन्हें आवश्यक सहूलियतें उपलब्ध कराने की। हालांकि कई बी-स्कूल ऐसी सुविधाएं उपलब्ध करवा रही हैं। जिसमें विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों एवं सरकार दोनों की तरफ से और भी वृद्धि की जानी चाहिए। जिससे युवा न सिर्फ एक महान उद्यम शुरू कर सकें, बल्कि बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी उपलब्ध करा सकें। श्री जैन ने कहा कि युवाओं को कारोबारी निपुणता प्रदान करने के साथ ही उनमें नैतिक एवं सामाजिक जीवन मूल्यों का भी समावेश करना चाहिए। जिससे वे औद्योगिक जिम्मेदारियों के साथ सामाजिक उत्तरदायित्यों का भी कुशलतापूर्वक निर्वहन कर सकें।


सम्मेलन के दौरान अपने विचार व्यक्त करते हुए एक्सचेंज4मीडिया समूह के संस्थापक, ख्यातिलब्ध पत्रकार श्री अनुराग बत्रा, जिंदल ग्लोबल बिजनेस स्कूल के प्रोफेसर डॉ शौनक राय चौधरी, जेआरई ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट के डीन डॉ विशाल तलवार, इंडियन स्कूल फॉर एंटरप्रेन्योर्स एंड एंटरप्राइज डेवलपमेंट के वाईस प्रेसिडेंट श्री शुभांकर चौधरी एवं राठौर मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर श्री पी एस राठौर ने भी विभिन्न बी-स्कूलों में स्टार्टअप लैब्स सहित विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध कराये जाने की आवश्यकता पर बल दिया। करियर ऑप्शंस के संपादक श्री मनीष छाबड़ा ने सभी अतिथियों के प्रति आभार ज्ञापित किया।

Leave a Reply