हम तो रमते राम हैं

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

दुःख सुख हानि लाभ में
जो भूत भविष्य काल में
न रोवें देख बदनामी
न हँसतें होत शुभ नामी

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

कभी सोवुं भूपति द्वार में
छत्री पलंग बिस्तर में
भोजन छहों रस के जमूं
जिव्हा रमे रस स्वाद में

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

कभी जाय जंगल में बसुं
वृक्षावली बीच में रहूँ
फल फूल भोजन मैं ग्रहूँ
नित नियम में रसना कसुं

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

कभी रेशमी परिधान में
कभी सूत्र सूक्ष्म प्रमाण में
कभी लक्ष्मी पति के पास में
कभी योगियों के साथ में

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

कभी दान दीनों को दऊँ
ध्यानी बनी प्रभु को भजूं
इस से हमें नाद हैं
शुभ काम ही से काम है

हम तो रमते राम हैं
दुनिया परे विश्राम हैं । ।

द्वारा

ध्यान योगी 
मधुसुदन दास जी

Leave a Reply