डीएसएसएसबी मुख्यालय पर बेरोजगार शिक्षकों का प्रदर्शन 22 सितंबर को


आनंद राणा 
अध्यक्ष, यूनिटी फाॅर डवलपमेंट

वर्ष 2009 में निकाली थी एमसीडी स्कूलों हेतु 6500 प्राथमिक शिक्षकों की भर्तियां फरवरी 2014 में ली गई लिखित परीक्षा, 8 माह बाद भी रिजल्ट निकालने में नाकामी पूरी तरह नाकाम साबित हो रहा है दिल्ली अधिनस्थ सेवा चयन बोर्ड उपराज्यपाल से लगाई रिजल्ट निकलवाने की गुहार एमसीडी के महापौर और दूसरे नेता साधे बैठे हैं चुप्पी

दिल्ली सरकार का दिल्ली अधिनस्थ सेवा चयन बोर्ड ( डीएसएसएसबी ) अपनी ढुलमुल और लापरवाह कार्यशैली की वजह से नाकारा साबित हो रहा है। यूनिटी  फाॅर डवलपमेंट संस्था के अध्यक्ष आनंद राणा ने कहा है कि वर्ष 2009 में दिल्ली नगर निगम के स्कूलों में चयन के लिए डीएसएसएसबी ने प्राथमिक शिक्षकों के 6500 पदों के लिए भर्तियां निकाली थी, आश्चर्य, चिंता और परेशानी की बात ये है कि डीएसएसएसबी आज तक इन भर्तियों के कार्य को पूरा नहीं कर पाया है। डीएसएसएसबी के खिलाफ अब बेरोजगार शिक्षकों के सब्र का बांध टूट रहा है और इसी के चलते नव शिक्षक निर्माण संगठन के बैनर तले आगामी 22 सितंबर को कडकडडूमा स्थित डीएसएसएसबी के मुख्यालय पर हजारों बेरोजगार शिक्षक 

प्रदर्शन करते हुए पोस्ट कोड 70/ 9 का रिजल्ट निकालने की मांग करेंगे। गौरतलब है कि करीब दो दशक पहले बोर्ड का गठन करते समय कहा गया था कि अब दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम की सरकारी नौकरियों में खाली पदों को भरने का कार्य तेजी से पूरा किया जाएगा लेकिन पिछले कई साल से डीएसएसएसबी “नौ दिन में चले अढाई कोस” वाली कहावत चरितार्थ कर रहा है। बोर्ड भर्तियां निकालने में तो बहुत तेजी दिखाता है लेकिन लिखित परीक्षा आयोजित करने और रिजल्ट निकालने में लगातार असफल होता रहता है।

यूनिटी फाॅर डवलपमेंट संस्था के अध्यक्ष आनंद राणा ने बताया कि बोर्ड की कार्यप्रणाली किस कदर नाकाम हो चुकी है इसका सबसे बड़ा उदाहरण 2009 में दिल्ली नगर निगम के स्कूलों में प्राथमिक शिक्षकों के लिए 6500 खाली पदों पर निकाली गई भर्तियों के मामले से समझा जा सकता है। पोस्ट कोड 70/ 9 के तहत इन खाली पदो के लिए करीब 40 हजार शिक्षकों ने आवेदन किया था। इसके बाद डीएसएसएसबी लगातार लिखित परीक्षा के आयोजन को टालता रहा। आखिरकार पांच साल बाद डीएसएसएसबी ने 2 फरवरी 2014 को लिखित परीक्षा आयोजित की। इसके बाद शिक्षकों में उम्मीद जगी कि अब उनको स्थायी नौकरी मिल जाएगी लेकिन यह छलावा ही साबित हुआ। विडम्बना देखिये कि लिखित परीक्षा लिये हुए करीब 8 महीने बीत चुके हैं लेकिन अब डीएसएसएसबी रिजल्ट नहीं निकाल रहा है। बेरोजगार शिक्षक परेशान है, स्कूलों में हजारों योग्य शिक्षकों की कमी के चलते बच्चों का भविष्य खराब हो रहा है लेकिन डीएसएसएसबी से कोई जवाब तलबी उपराज्यपाल सचिवालय से नहीं हो रही है। दिल्ली नगर निगम के महापौर, स्थायी समिति के अध्यक्ष और शिक्षा समिति के चैयरमेन चुप्पी साधे हुए हैं जबकि ये पूरा मामला नगर निगम के स्कूलों से जुड़ा हुआ है। यूनिट्ी फाॅर डवलपमेंट संस्था ने उपराज्यपाल श्री नजीब जंग से आग्रह किया है कि डीएसएसएसबी को पोस्ट कोड 70/ 9 के तहत ली गई परीक्षा का रिजल्ट जल्द से जल्द निकालने का आदेश दें।

Leave a Reply