भाविप जनकपुरी शाखा ने हर्षोल्लास के साथ मनाया 22वां वार्षिकोत्सव

भारत विकास परिषद् की सी-2, जनकपुरी शाखा का 22वां वार्षिकोत्सव श्री गीता मंदिर में बड़े ही हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर परिषद् के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री सुरेंद्र कुमार वधवा, पूर्व राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री आईडी ओझा, राष्ट्रीय संयोजक (मीडिया) श्री राजकुमार जैन, पूर्व महापौर श्री पृथ्वीराज साहनी, भाविप दिल्ली दक्षिण की मुख्य संरक्षक श्रीमती प्रेम रानी चौधरी, सलाहकार श्री बीएल पराशर, अध्यक्ष श्री जीएस भारद्वाज, महासचिव श्री एमके वधवा, श्री गीता मंदिर के अध्यक्ष श्री आरडी छोकरा एवं विकास संदेश के संपादक श्री केबी महाजन आदि की गरिमामयी उपस्थिति रही।

वार्षिकोत्सव समारोह के दौरान अपने जीवन के अस्सी वसंत देख चुके वरिष्ठ सदस्यों एवं संस्थापक शाखा दायित्वधारियों को सम्मानित किया गया। साथ ही अक्टूबर मास में जन्में परिषद् सदस्यों का धार्मिक विधि-विधान से जन्मदिवस मानते हुए ईश्वर से उनके दीर्घायु की कामना की गयी। इस दौरान स्कूली बच्चों ने देशभक्ति से ओत-प्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर सभी का मन मोह लिया। अपने सम्बोधन में श्री सुरेंद्र कुमार वधवा ने भारतीय संस्कृति को विश्व में सर्वश्रेष्ठ बताते हुए कहा कि वर्तमान भौतिकवादी युग में हम अपनी संस्कृति से विमुख होते जा रहे हैं, जो कि चिंताजनक एवं घातक है। भारतीय संस्कृति का संरक्षण-संवर्धन उत्कृष्ट जीवन जीने के लिए बेहद जरूरी है।

श्री राजकुमार जैन ने कहा कि यह हमारी संस्कृति की विशेषता ही है की हम अपने बड़े-बुजुर्गों को देवतुल्य मानते हैं। हमें भारतीय संस्कृति एवं जीवन मूल्यों को आत्मशात करते हुए राष्ट्र के प्रति समर्पण भावना से कार्य करना होगा। श्री पृथ्वीराज साहनी ने नैतिक जीवन मूल्यों पर आधारित शिक्षा उपलब्ध कराये जाने की जरुरत पर बल देते हुए भारत विकास परिषद् के कार्यों की जमकर सराहना की। उन्होंने कहा कि परिषद् देश के दूर-दराज क्षेत्रों में भी छात्रों को संस्कारित करने का महान कार्य कर रहा है। जो कि प्रशंसनीय एवं अनुकरणीय है।

समारोह के दौरान विकास रत्न श्री आरके अग्रवाल, श्री एसवी कौशिक, श्री एमएल कौशिक एवं श्री कुलदीप देवड़ा आदि भी मौजूद रहे । श्री केसी सूद ने सभी अतिथियों का अभिनन्दन एवं श्री एचके बब्बर ने धन्यवाद ज्ञापित किया ।

Leave a Reply