सपनों की हकीकत

रजनी 

सभी सपने देखते हैं. यहाँ तक की हम रोज सपने देखते हैं. सिर्फ कभी कभी हम याद रख पाते हैं. बाहर की तरह ही हमारे अन्दर भी ब्रमांड का विस्तार है. हमारा मस्तिष्क भूत, वर्तमान और भविष्य की परतों में खोया रहता है. जिन पलों में हम सतर्क रहते हैं, उन्हें ही हम सपनों की दुनिया में संकेतों के रूप में महसूस करते हैं. 
जिस तरह सपने में हमारी चेतना सोई रहती है, उसी तरह हम जीवन भर जाग कर भी सोये रहते है क्योंकि हमारी आत्मा सोई रहती है.
मोटे तौर पर हमारी दबी हुई इच्छाएं सपनों में विभिन्न संकेतों द्वारा व्यक्त होती है :


अंगूर : सफलता मिलती है.
साधू संत : उन्नति का प्रतीक
सपने में डर :  दूर यात्रा का मौका मिलना
सर्प : शुभ समाचार मिलना
सर्प का काटना : किसी रिश्तेदार के विषय में शुभ समाचार मिलना
रेल इंजिन : यात्रा का विचार बनना
सफ़ेद दाढ़ी वाला साधू : ऐसा देखना बहूत शुभ है
मृत्यु : मरने वाले की उम्र बढ़ने का प्रतीक है.
मोठ की दाल : धन लाभ
विवाह समारोह : किसी रिश्तेदार की मौत की संभावना
भयंकर आग : किसी परेशानी आने की संभावना
अपमान होते देखना : उन्नति होने का प्रतीक
ईमारत : सम्पन्नता आती है
खुद को पूजा करते देखना : दैविक शक्ति मिलने का प्रतीक.
भोजन करना : बीमारी आने का संकेत
उड़ता विमान : धन मिलने का संकेत
बाढ़ : बीमारी आती है
घोड़े से गिरना : कष्ट आने का संकेत
बहता पानी : सेक्स के प्रति आकर्षण 
हवा में उड़ना : सफलता मिलना 

सपनों से हकीकत जानने की तकनीक अगले लेख में