पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन ने मांग पत्र पार्टियों के प्रमुखों को सौंपा

अशोक कुमार निर्भय

पंजाबी बाग। पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन कार्यकारिणी एवं सदस्यों की एक आवश्यक मीटिंग पंजाबी बाग में आयोजित की गई। इस मीटिंग की अध्यक्षता प्रधान शंकर दास बंसल ने की। इस मीटिंग में पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन ने दिल्ली सरकार द्वारा वैट पर विषमताओं एवं विसंगतियों के विषय में गहन चर्चा की और वर्तमान के दिल्ली चुनावों के माहौल में दिल्ली की तीनों पार्टियों आप, भाजपा एवं कांग्रेस पार्टी के प्रदेशाध्यक्षों को पैट्रोलियम ट्रेड से सम्बंधित समस्याओं से अवगत कराने के साथ एक मांग पत्र भी इन पार्टियों के प्रमुखों को सौंपा।

मांग पत्र सौंप कर ज्ञापन कहा में है कि दिल्ली के ल्युब्रिकेन्ट्स व्यापार पर 20 प्रतिशत वैट लगाया जाता है जबकि हरियाणा, राजस्थान में वैट की दर दिल्ली के मुकाबले 8 से 10 प्रतिशत कम है। जिसके चलते दिल्ली का ल्युब्रिकेन्ट्स व्यापार दिल्ली से सिमट कर हरियाणा एवं एनसीआर क्षेत्र मे जाने को विवश है। पैट्रोलियम ट्रेडर्स की कार्यकारिणी ने सर्वसम्माति से फैसला किया है कि जो भी पार्टी दिल्ली में ल्युब्रिकेन्ट्स व्यापार की बेहतरी के लिए उनकी मांगों को अपने चुनाव घोषणा पत्र में शामिल करेगा समस्त दिल्ली के ल्युब्रिकेन्ट्स व्यवसायी दिल्ली विधानसभा चुनाव में उस राजनीतिक दल को अपना पूर्ण समर्थन देंगे।

इस प्रतिनिधि मण्डल में पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन के प्रधान शंकर दास बंसल, महामंत्री श्रीनिवास गुप्ता, उपप्रधान जगन्नाथ सिंगला, खुशीराम गुप्ता, सचिव अशोक गोयल, कोषाध्यक्ष आनंद प्रकाश गोयल एवं समस्त कार्यकारिणी सदस्य उपस्थित थे।

गौरतलब है कि दिल्ली के ल्युब्रिकेन्ट्स व्यवसाय से सम्पूर्ण दिल्ली में लाखों लोग प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से जुड़े हुए हैं। पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने अपनी जिन मांगों को राजनैतिक दलों के चुनाव घोषणा पत्र में शामिल करने हेतु जिन मांगों को रखा है उनमें प्रमुख रूप से दिल्ली में भी एनसीआर एवं अन्य राज्यों के समान 12.5 प्रतिशत वैट लगाया जाए जबकि वर्तमान में दिल्ली के ल्युब्रिकेन्ट्स व्यापार पर 20 प्रतिशत की दर से वैट लगाया जाता है। वहीं दूसरी ओर टीकरी बार्डर से एक किलोमीटर की दूरी पर टैक्स की दर 12.5 प्रतिशत है। इस कारण दिल्ली से ल्युब्रिकेन्ट्स व्यवसाय से सरकार को सर्वाधिक वैट के रूप में टैक्स से प्राप्ति होती है उसके बावजूद ल्युब्रिकेन्ट्स व्यापारियों को संशय की दृष्टि से देखा जाता है। वर्तमान समय में अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में तेल की कीमतों में गिरावट आने के कारण वर्तमान में ल्युब्रिकेन्ट्स सस्ता होने के कारण हो सकता है कि सरकार को ल्युब्रिकेन्ट्स व्यवसाय से कम आय हो। दिल्ली में ल्युब्रिकेन्ट्स पर वैट की विसंगतियां दूर करने के साथ ल्युब्रिकेन्ट्स व्यवसाय को डीजल—पैट्रोल के व्यवसाय से अन्यत्र देखा जाए। पैट्रोलियम ट्रेडर्स वैलफेयर एसोसिएशन का एक प्रतिनिधि मण्डल अध्यक्ष शंकर दास बंसल के नेतृत्व में आप संयोजक केजरीवाल एवं भाजपा दिल्ली प्रदेश के अध्यक्ष सतीश उपाध्याय को एक ज्ञापन सौंप कर उसे चुनावी घोषणा पत्र में शामिल करने का अनुरोध किया है।

Leave a Reply