अपार इंडिया ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशंस में ग्रेजुएशन समारोह

अपार इंडिया ग्रुप ऑफ इंस्टिट्यूशंस के द्वारका कैंपस में ग्रेजुएशन समारोह का आयोजन किया गया। इस दौरान ‘अपार इंडिया’ के फाउंडर चेयरमैन श्री राजकुमार जैन एवं डॉयरेक्टर प्रो. अपार जैन ने सफलतापूर्वक कोर्स पूरे करने वाले एमबीए-बीबीए, एमसीए-बीसीए आदि के छात्र-छात्राओं को प्रतिष्ठित सिक्किम मणिपाल यूनिवर्सिटी की डिग्री प्रदान की।

इस अवसर पर चेयरमैन श्री राजकुमार जैन ने छात्रों को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए उन्हें एक कुशल प्रोफेशनल्स के साथ ही एक बेहतर इंसान बनने की प्रेरणा दी। उन्होंने छात्रों का आह्वान किया कि ‘अपार इंडिया’ में उन्हें जो संस्कार मिला है, उसे अपने जीवन में आत्मशात करें और दूसरों को भी ऐसा करने को प्रेरित करें।

डॉयरेक्टर प्रो. अपार जैन ने बताया कि ‘अपार इंडिया’ के रोहिणी, द्वारका, करोलबाग एवं द्वारका कैंपस में करीब चार हजार छात्र अध्ययनरत हैं। दिल्ली एवं आसपास की विभिन्न प्रतिष्ठित कंपनियों में करीब बीस हजार अपारियंस शीर्ष पदों पर कार्यरत हैं। सही मायने में यही हमारे ब्रांड एंबेस्डर हैं, जो अपने संस्कार एवं कार्यकुशलता से कॉलेज की ख्याति में चार चाँद लगा रहे हैं। 

इस अवसर पर छात्रों ने भी अपनी भावनाएं प्रकट की। एक्सिस बैंक के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट श्याम सुंदर सभरवाल ने बताया कि उनका लंबा जॉब अनुभव रहा है। इस दौरान उन्होंने विभिन्न अहम जिम्मेदारियों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। फिर भी उन्हें लगता था कि एमबीए की औपचारिक डिग्री भी होनी चाहिए। इसके लिए ‘अपार इंडिया’ उन्हें औरों से बेहतर लगा। क्योकि यहां नॉलेज एवं स्किल्स पर बेहद जोर दिया जाता है। उन्होंने भी कड़ी मेहनत की।

असिस्टेंट वाईस प्रेजिडेंट-जीई विवेक शर्मा ने बताया कि वे जिस विभाग में कार्यरत हैं, उसमें 80 फीसदी मामलों में एमबीए डिग्री जरुरी है। उनके लिए भी कांसेप्ट को सही तरीके से वर्कआउट करने के लिए एमबीए करना आवश्यक था। उन्होंने ‘अपार इंडिया’ में बहुत कुछ सीखा।

इंडिगो एयरलाइन्स के ट्रेनर गौरव लाहा ने बताया कि अपनी कार्यकुशलता में वृद्धि के लिए वे बीबीए करना चाहते थे। उनकी माँ पहले से ही ‘अपार इंडिया’ से बेहद प्रभावित थीं। उन्होंने ही ‘अपार इंडिया’ से बीबीए करने के लिए प्रेरित किया। आज उन्हें अपनी माँ और ‘अपार इंडिया’ दोनों पर गर्व है।

Leave a Reply