Kamdhenu Gowdham 2nd Annual Function held

गांव बिस्सरअकबपुर में स्थित कामधेनू गौधाम गौशाला में द्वितिय वार्षिक उत्सव का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सुकैम पावर के प्रबन्ध निदेशक कंवर सचदेव ने की। मुख्य अतिथि के रूप में औमप्रकाश धनखड कृषि एवं पशु पालन मंत्री व अशीर्वाद क्षेत्रीय कार्यकारिणी सदस्य, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ एवं पूर्व अखिल भारतीय सेवा प्रमुख का मिला। कार्यक्रम का आरम्भ माननीय प्रेमजी गोयल, आचार्य संजीव कृष्ण ठाकुर, माननीय औमप्रकाश धनखड, माननीय कंवर सचदेव एवं माननीय फेज मोहम्मद द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।

मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए हरियाणा सरकार के मंत्री ने बैशाखी दिवस पर जलियावाला बाग के शहीदों को नमन किया। आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि शिक्षा की कमर तोडक़र ही अंग्रेजों ने हमारे उपर राज किया। शिक्षा की कमर तोडऩे के लिए उन्होंने दो सूत्रीय कार्यक्रम चलाया। उनके अनुसार पश्चिम की हर बात अच्छी है, उसे देखो और अपनी अच्छाईयों को देखना बंद करो। दूसरा अंग्रेजों ने हमें नौकर बनना सिखाया कभी मालिक बनना नहीं सिखाया। लेकिन यूनान मिस्र रोमा सब मिट गए जहां से, क्या बात की हस्ती मिटती नहीं हमारी। उन्होंने कहा कि हमारे संस्कारों, संस्कृति और अनुभव को हमने संजोकर रखा। इसलिए हम आज भी विश्व के मानचित्र पर अपनी पहचान बनाये हुए है। गौ संरक्षण संवर्धन पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि साठ साल से जो काम कांग्रेस नहीं कर पाई वह हरियाणा में हमारी मनोहर सरकार ने आते ही सबसे पहले कर दिया और हमें गर्व है कि संपूर्ण देश में सबसे सख्त गौ संरक्षण कानून हरियाणा के पास है। उन्होंने कहा कि पेप्सी आदि विदेशी वस्तुओं पर साठ हजार करोड़ रूपए विदेशों में जा रहा है। हम चाहते है कि गाय के उत्पाद को अमेरिका में बेचा जाए। स्वदेशी गाय के दूध को सर्वोत्तम बताते हुए उन्होंने कहा कि कैरोटिन नाम तत्व स्वदेशी गाय के दूध में होता है। स्वदेशी गाय का दूध पाचन, दिल, मधुमेह आदि बीमारियों में लाभदायक होता है। ऋषिमुनियों ने जांच पड़ताल कर ही गाय के दूध को सर्वोत्तम कहा है।

मुख्य वक्ता के रूप में गौरक्षा प्रकोष्ठ (मुस्लिम राष्ट्रीय मंच) के राष्ट्रीय संयोजक फैज मोहम्मद ने सर्वप्रथम गाय के उपर कानून बनाने के लिए हरियाणा सरकार के सभी विधायकों को दण्डवत प्रणाम करते हुए कहा कि मैं उन्हें सादर नमन करता हूं। उन्होंने कहा पश्चिम हमारी अर्थव्यवस्था पर चोट करने की नीयत से गाय के प्रति हमारी श्रद्धा को तोडऩे का काम कर रहा है। यह प्रयास फिल्मों द्वारा फूहड प्रचार, गौशाला और मन्दिरों के प्रति गलत अफवायें फैलाकर अंजाम दे रहा है, क्योकी पश्चिमी देशों को गौमांस चाहिए और गाय हमारी अर्थव्यवस्था से जुड़ी हुई है। उन्होंने भारत के त्यौहार गौपाष्ठमी, गौवर्धन, दीपावली आदि के बारे में बोलते हुए कहा कि यह त्यौहार सभी को आपस में जोडने का काम करते है। जबकि आईपीएल इंडिया का त्यौहार है। जिसमें अश£ील नृत्य और सट्टेबाजी से कई परिवार बर्बाद हो चुके है। उन्होंने गौशालाओं को तन मन धन से सहयोग करने का आह्वान करते हुए कहा कि यदि गौधन को संरक्षण मिलेगा तो भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। गौकसी का काम करने वाले सभी संप्रदाय के लोग होते है लेकिन आरोप मुस्लिम संप्रदाय पर लगता है। सितम्बर २०१५ में मेवात के अन्दर हम मुस्लिम मंच द्वारा बहुत बडा गौ सम्मेलन करने जा रहे है। 
गौशाला के संचालक एस पी गुप्ता सेवानिवृत आईएएस ने कहा कि उनको गौ सेवा की प्रेरणा परिवार व सहयोग पत्नी से मिला है। और प्रभु की अपार कृपा से ही सब कुछ त्याग कर गऊ सेवा में लगने का सोभाग्य प्राप्त हुआ। जितना कम सामान रहेगा उतना सफर आसान रहेगा और सभी कुछ गौ को समर्पण कर दिया। आगामी योजना पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि गौ नस्ल सुधार के लिए स्वदेशी गौ एवं नंदी की खरीद की जायेगी। गौमूत्र एवं गौमय का अधिकतम लाभदायक ढंग से उपयोग एवं बायोगैस यंत्र का निर्माण भी योजना में है। प्रेमजी ने अपने आषीश बचन में कहा कि भारत सोने की चिडिय़ा था अब फिर से हम उसी स्थान पर पंहुच रहे है। अमरिकी विद्यान जैम्स मार्टिन के अनुसार गाय के गौबर को समुद्र के पानी से सींचा जाए तो बंजर भूमि भी हरी हो जाती है। उन्होंने कहा कि सरकार तो काम कर रही है लेकिन हमें भी समाज के अभाव ग्रस्त लोगों के पास जाकर उन्हें सहयोग देना होगा। हम कृष्ण बनकर सुदामा के पास जायेगें तभी हम विश्व गुरू बनेगें। गौशाला कार्यक्रम के अध्यक्ष कंवर सचदेव व औमप्रकाश धनखड जी ने पांच पांच लाख रूपये की सहयोग राशि दी। क्षेत्र के विधायक तेजपाल तंवर व रेवाडी विधायक रणधीरसिंह कापडीवास ने भी एक एक लाख रूपए की सहायता राशि भेंट दी। इस अवसर पर डा० आर० एम० खरब, स्वामी दिव्यानंद जी, जगदीश मित्तल, पवन जिंदल, रविन्द्र तनेजा, रमेश अग्रवाल, धर्मपाल पहलवान, राकेश जैन, प्रवीन जैन, वशिष्ट गोयल आदि विशिष्ट समाजसेवी उपस्थित थे।

Leave a Reply