एक अलग प्रकार का है शो – दृष्टिधामी

मधुबाला’ शो से लोकप्रियता पाने वाली एक्ट्रेस दृष्टि धामी भारतीय मॉडल और अभिनेत्री है। वह दिल मिल गए, गीत हुई सबसे पराई और मधुबाला जैसे लोकप्रिय धारावहिकों के अलावा झलक दिखला जा के छठे संस्करण की विजेता भी रह चुकी है। 30 साल की इस एक्ट्रेस ने इसी साल फरवरी में मुंबई के व्यवसायी नीरज खेमका से शादी की थी। दृष्टि का कहना है कि शादी के बाद उनके लिए एकदम सही वापसी इस सीरियल से संभव थी।


एक साल के बाद फिर छोटे परदे पर वापसी कर रही हैं,पीरियड ड्रामा ‘एक था राजा एक थी रानी’ से । अपने नये शो के बारे में उनका क्या कहना है,जानते है, उनकी जुबानीः

शादी के बाद की वापसी पर क्या कहेगीं ?
मेरे लिए यह एक बहुत सहज बदलाव रहा. और शादी के बाद मेरी वापसी के लिए यह धारावाहिक सबसे सही है। मैं काम पर लौटकर बहुत खुश हूं।

एक था राजा एक थी’पीरियड ड्रामा को लेकर क्या सोचती हैं ? 
यह मेरी पंसद का धारावाहिक है, शो का सबसे अच्छा पहलू इसकी वेशभूषा है. चोटियों, सूती साडी, रंग बिरंगे ब्लाउज, बहुत कम मेकअप के साथ मुझे अपना पूरा लुक पसंद है।

किस प्रकार किरदार है ?
पीरियड कहानी बेसड धारावाहिक है,मेरे किरदार का नाम है, गायत्री। यह आम लड़की के प्यार की कहानी है। जो एक छोटे से परिवार से है, लेकिन बाद में उसकी शादी एक महाराजा (सिद्धांत) से हो जाती है। वह एक शाही परिवार का हिस्सा बनने के बाद अपनी जिंदगी में अचानक से बदलाव देखती हैं।

‘मधुबाला’ के बाद इस शो में गायत्री का किरदार निभाते कैसा महसूस कर रही हैं?
इस शो का फील ही बहुत रॉयल है। हमने इसकी शूटिंग अब तक ओरिजिनल पैलेस में की है। शुरू में मैं एक कॉमन फैमिली की लड़की दिखाई गई हूं, जो बाद में महलों में पहुंच जाती है। इस किरदार के लिए मेरी पोशाक, बात करने का तरीका या फिर मेरा हेयर स्टाइल एकदम पुराने दौर का दिखेगा। यह कहानी भी 1940 के दौर की है। शो के अकॉर्डिंग ही मेरा गेटअप है, जिसके साथ एक्ट करने में मैं काफी एंजॉय कर रही हूं। मैंने बचपन में ऐसी कहानियां सुनी थी, जिसे अब मैं इस शो के जरिए दिखाने वाली हूं।

गायत्री के किरदार के लिए कुछ खास मेहनत की ?
मैंने इस किरदार के लिए बाकायदा वर्कशॉप अटेंड की हैं, खासकर लैंग्वेज को लेकर आम बोलचाल । इस शो को करते हुए मुझे ऐसा लग रहा है जैसे बचपन के किरदारों को जी रही हूं।

धारावाहिक में आपके अलावा कौन कौन से कलाकार है ?
सिद्धार्थ कर्णिक, अनीता राज, दर्शन जरीवाला, अक्षय आनंद, सुरेश सिकरी भी हैं। यह 1940 के दशक के भारतीय राजा-महाराजाओं के काल पर आधारित है।

अनीता राज जैसी मंझी कलाकार के साथ काम करने का अनुभव कैसा रहा ?
परिपक्व अदाकारा होने के साथ बेहद अच्छी इंसान हैं। अब तक मैंने उनके साथ एक भी शॉट नहीं दिया लेकिन आउटडोर शूटिंग में हम साथ थे। वे काफी फिट और अपने टाइम टेबल को लेकर पंचुअल हैं। वे पूरी टीम को रनिंग, योगा करवाती हैं। एक दिन मैंने भी किया पर मैं तो थककर वापस आ गई। दूसरे दिन भी मुझे जाना था पर मैंने टाल दिया

Leave a Reply