आरक्षण व उत्तर प्रदेश विभाजन की मांग के विरोध में उत्तरी हिन्दुस्तान उत्थान पार्टी

प्रेमबाबू शर्मा​

हिन्दुस्तान उत्थान पार्टी ने प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से मांग करते हुए कहा कि वे जातिगत आरक्षण व प्रदेशों के बंटवारों की मांग को सख्ती से ठुकराते हुए देष के बेरोजगारों को रोजगार दिलाने के लिए उचित कदम उठाये। इस संबन्ध में हिन्दुस्तान उत्थान पार्टी ने प्रधानमंत्री कार्यालय को ज्ञापन सौंपा। 
हिन्दुस्तान उत्थान पार्टी के अध्यक्ष श्री ज्ञानेष कुमार चैहान ने कहा कि जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन हुआ था व् देश के संविधान में आरक्षण सिर्फ 10 वर्ष के लिए उन मजबूर और लाचार लोगों को बढ़ावा देने के लिए दिया गया था जो लोग आर्थिक रूप से बहुत लाचार थे मगर यह बढ़ते बढ़ते आज 67 वर्ष तक भी कायम है। भारत में रोज कहीं न कहीं आरक्षण के नाम पर उत्पात मचाया जा है जबकि जो वर्ग आज आरक्षण की मांग कर रहा है वह आर्थिक रूप से संपन्न है। कुछ राजनीतिक पार्टियां भी अपने वोट बैंक के लिए आरक्षण का विरोध नहीं कर रही हैं इसका नतीजा सभी ने हरियाणा में देखा हुआ है जहां आरक्षण के नाम पर हजारों कराड़ों की सरकारी संपत्ति को नुकसान पहंुचाया गया और वहां माताओं बहनों की आबरू के साथ भी खिलवाड़ किया गया। माननीय प्रधानमंत्री जी आपसे हमारी मांग है कि आरक्षण की समीक्षा की जाये व् यह सुनिश्चित किया जाये कि जातिगत आरक्षण की बजाय आरक्षण को आर्थिक आधार पर लागू हो सके। 
जंतर-मंतर पर आयोजित रैली को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री ज्ञानेश कुमार चैहान ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री जी से हमारी यह भी मांग है कि सभी प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों को यह सुनिश्चित करने को कहें कि देश सेवा में लगे हमारे सैनिकों ओर पुलिस वालों या अन्य विभागों में निस्वार्थ देश सेवा कर रहे हैं, अगर किसी भी दुर्घटना में अगर उनको किसी भी प्रकार की क्षति पहुंचती है तो उनको एक जैसी सहायता उपलब्ध कराई जाये तथा उनके परिवार की हर संभव मदद की जाये, क्योंकि यह लोग निःस्वार्थ रूप से हमारे देश की सेवा में लगे हुए हैं और हमारी व हमारे परिवारों की सुरक्षा करते हैं।

प्रदर्शन में प्रमुख रूप से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री ज्ञानेश कुमार चैहान, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष दीपक कुमार, राष्ट्रीय महासचिव ओमप्रकाश सिंह, रितेश कुमार, केशव कुमार, आनंद चैहान, शिव कुमार, अतुल कुमार, मुदित कुमार, इस्तियक अहमद, आमिर खान व अन्य सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Leave a Reply