दिल्ली में मंचित सर्वश्रेष्ठ रामलीला होगी सम्मानित


-प्रेमबाबू शर्मा

एक अक्टुबर से प्रभू श्रीराम की लीला के मंचन के साथ ही पूरी दिल्ली राममय हो जायेगी । इस बार सर्वश्रेष्ठ रामलीला मंचन को मीडिया प्रेस क्लब रेफ्रेस दशहरा पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा। यह जानकारी मीडिया प्रेस क्लब के महासचिव मोहम्मद जोशी ने दी।

उन्होंने बताया कि मीडिया प्रेस क्लब प्रत्येक वर्ष करता रहा है और यह पुरस्कार रामलीला आयोजकों मे खासा लोकप्रिय हैं और बड़ी रामलीला आयोजक तो इस पुरस्कार के पाने के लिए रेफ्रेस दशहरा पुरस्कार 2016 के मापदंड के अनुसार ही अपनी रामलीला का मंचन करते हैं।

मोहम्मद जोशी ने ‘पुरस्कार देने की प्रक्रिया के बारे में बताया कि ‘सभी रामलीला व उनके पदाधिकारियों को सूचना दे दी गई और रामलीला आयोजको को निर्धारित फार्म भरकर मीडिया प्रेस क्लब में 30 सितंबर तक स्वीकार किये जायेगें। फार्म भरने के लिए कोई भी रामलीला आयोजक इस 08802818844 नंबर पर फोन करके कर हमारे प्रतिनिधि को बुला सकते है। रामलीला को जज करने के लिए उन रिपोर्टर्स को जज बनाते हैं जो रामलीला फिल्म मनोरंजन कल्चरल क्षेत्र में अनुभव रखते हैं।


इस बार मुख्य जज आध्यात्मिक गुरु संत त्रिलोचनं दर्शन दास महाराज और विशेष जज का दायित्व श्री एस पी मिश्रा को सौंपा  गया।  महासचिव जोशी ने आगे बताया इस पुरस्कार को दर्शको में और रोचक बनाने के मकसद से इस बार हम दूसरे राउंड में आये सभी 60 रामलीला में सेल्फी मंच मुख्य स्थान पर लगाया जा रहा है उस पर आकर सेल्फी लेकर एक निर्धारित स्थान पर भेजने पर हमारे प्रयोजक उसको एक कूपन देंगे और उस पर लिखित उपहार उसी समय दे दिया जायेगा। 

श्री एस पी मिश्रा ने मीडिया प्रेस क्लब का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि ‘मुझे विशेष जज जैसे गारिमा पूर्ण पद पर नियुक्त कर मेरी जिम्मेदारी बढा दी है, क्योंकि यह एक चुनौतीपूर्ण और जिम्मेदारी कार्य हैं,और प्रभू श्रीराम से दुआ करता हॅू कि मैं अपने कार्य में सफल होऊ। 

श्री कृश पटेल निदेशक प्राइम कमफोर्ट और मुख्य प्रायोजक रिफ्रेश दशहरा पुरस्कार 2016 ने कहा हम सदैव मीडिया प्रेस क्लब के साथ हर कार्यक्रम और योजना मिलकर करते हैं। इस बार भी उनका प्रयास है कि लोग प्रभू राम की लीला का अवलोकन के साथ सत्य के मार्ग भी को भी अपनाये। इसके साथ ही बेटी बचाओं और वातावरण को स्वच्छ रखने और अधिक से अधिक पेड लगाने का भी संकल्प ले।

Leave a Reply