Uttarakhand Govt. organized Roadshow successfully in Delhi


उत्तराखंड ने दिल्ली रोड-शो के द्वारा उद्योगपतियों को ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड: इन्वेस्टर्स समिट’ में आने का दिया न्योता

( रिपोर्ट एवं छाया: एस. एस. डोगरा)

नई दिल्ली, 30 अगस्त 2018 : उत्तराखंड सरकार ने 7-8 अक्टूबर 2018 को होने वाले ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंड : इन्वेस्टर्स समिट’ के लिए आज देश की राजधानी दिल्ली में एक रोड शो किया। यह उत्तराखंड राज्य का पहला निवेशक सम्मेलन होगा, जिसका आयोजन देहरादून में किया जा रहा है। इस सम्मेलन का उद्घाटन, भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी करेंगे। उत्तराखंड के पहले निवेश सम्मेलन का आयोजन उत्तराखंड के राष्ट्रीय साथी कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन इंडस्ट्रीज (सीआईआई) के सहयोग से किया जाएगा।

उत्तराखंड के माननीय मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रोडशो को संबोधित किया। इस अवसर पर उत्तराखंड सरकार के कुछ वरिष्ठ मंत्रियों ने भी भीड़ को संबोधित किया जिनमें श्री मदन कौशिक- माननीय मंत्री आवास और शहरी विकास, उत्तराखंड सरकार, श्री सतपाल महाराज पर्यटन मंत्री, उत्तराखंड सरकार, श्री प्रकाश पंत, वित्त मंत्री, उत्तराखंड सरकार, श्री हरक सिंह रावत, मंत्री, वन और वन्यजीवन, पर्यावरण, उत्तराखंड सरकार डॉ. धन सिंह रावत, राज्य मंत्री, उच्च शिक्षा ;स्वतंत्र प्रभार, उत्तराखंड सरकार मौजूद थे.

उत्तराखंड सरकार के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने निवेशकों को राज्य में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया जिनमें मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह, उद्योग विभाग की प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पवार, श्री शैलेश बागौली, सचिव, परिवहन, उत्तराखंड सरकार, श्रीमती सौजन्या, डायरेक्टर जनरल एवं कमिश्नर, इंडस्ट्रीज, उद्योग विभाग के महानिदेशक/आयुक्त श्री दिलीप जावल्कर, पर्यटन विभाग के सचिव श्री के.एस.पवार, मुख्य मंत्री के औद्योगिक सलाहकार और मुख्य मंत्री के तकनीकी सलाहकार डॉ. नरेन्द्र सिंह तोमर के नाम सम्मिलित हैं।

इस अवसर पर उत्तराखंड के सरकारी अधिकारियों के अतिरिक्त श्री नवीन मुंजाल, प्रबंध निदेशक, हीरो इलेक्ट्रिक वाहन, जेबीएम ग्रुप के अध्यक्ष श्री धीरज मोहन, श्री फिल शॉ, सीईओ, लॉकहेड मार्टिन, इंडिया, श्री के बी। कचरू, अध्यक्ष एमेरिटस, कार्लसन रेजीडोर समूह, श्री सिद्धार्थ दासगुप्त अध्यक्ष . कोरोपोरेट अफेयर्सए ओयो, श्री शरद भारद्वाज, हेड डेवलपमेंट अफेयर्स, फॉर्च्यून होटल, श्री अनिल केजरीवाल, अध्यक्ष और एमडी, माइक्रोब्रू बिस्ट्रो प्राइवेट लिमिटेडए श्री सुनील वाचना, अध्यक्ष, डिक्सन टेक्नोलॉजीज इंडिया लिमिटेड, श्री जीतेन्द्र धारवा, सीईओ, कान पैकेजिंग प्राइवेट लिमिटेड, श्री विकास जालान, प्रबंध निदेशक, ट्रांस मेटलाइट इंडिया लिमिटेड, श्री नवीन चंद्र पांडे, ओएसडी और वरिष्ठए प्रबंधक स्कूल प्रशासन, श्री अनुराग शर्मा, जीएम इंस्टीट्यूशनल डेवलपमेंट, ग्लोबल इंडियन स्कूल एजुकेशन सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, श्री अंकित गुप्ता, निदेशक ;योजना और रणनीतिद्ध श्री संजय तोमर जीएम ;कॉर्प एंड लीगल अफेयर्सद्ध, होलोस्टिक इंडिया लिमिटेड, श्री हरकनवाल वाधवा, संस्थापक और सीओओए अज़ूर पावर, श्री नितिन पासी, निदेशकए लोटस प्राइवेट लिमिटेड, श्री सैमित रे, वरिष्ठ निदेशक, यूटीसीए श्री विपुल बाजपेई, महाप्रबंधक, काइनेटिक ग्रीन, श्री सुरेश गोयल, निदेशक, बिकानो ;बीकानेरवाला, श्री इंद्रजीत प्रूथी, प्रबंध निदेशकए एलिनज़ पोर्टेबल, श्री मल्टीनीए अध्यक्ष, दिल्ली कारखानों के संयोजन, अवेना समूह के प्रबंध निदेशक श्री अवदेश मित्तल, श्री नवीन रंजन, निदेशक स्प्रे स्टीम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड सुकरोहि इंटरनेशनल लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री सुनील अग्रवालए श्री रिचर्ड मैक कैलम, यूकेबीआईसी के प्रबंध निदेशक और भारतीय मूल चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री पीओआईसीसीआई के महासचिव अभय अग्रवाल।

रोडशो का मुख्य उद्देश्य लोगों को उत्तराखंड में निवेश के अवसरों के बारे में जानकारी देना और ‘डेस्टिनेशन उत्तराखंडः इन्वेस्टर्स समिट 2018’ के लिए सक्रिय भागीदारी के लिए आकर्षण पैदा करना था। रोडशो में उत्साहवर्द्धक समर्थन मिला। इसमें दिल्ली के व्यवसायी समाज ने जबर्दस्त दिलचस्पी दिखाई। उत्तराखंड सरकार के प्रतिनिधि मंडल ने राज्य के 12 प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों को उजागर किया जिनमें खाद्य प्रसंस्करण, बागवानी एवं फूलों की खेती, जड़ी-बूटी और सुगंधित, पर्यटन एवं आतिथ्य, तंदुरुस्ती एवं आयुष, औषधि, ऑटोमोबाइल, कुदरती रेशे, सूचना प्रौद्योगिकी, अक्षय ऊर्जा, जैव प्रौद्योगिकी एवं फिल्म शूटिंग सम्मिलित हैं।

इस रोड शो में उत्तराखंड के माननीय मुख्यमंत्री, श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि, श्हम आपके राज्य में निवेश के संबंध में आपके सुझावों और इनपुट को आमंत्रित करते हैंए और इस साल अक्टूबर में निवेश सम्मेलन शुरू होने से पहले हम आपको सभी को आश्वस्त करेंगे कि हम आपके सुझाव के आधार पर सकारात्मक प्रगति करेंगे।हम कनेक्टिविटीए जनशक्ति और औद्योगिक विकास के मामले में राज्य के विकास में वृद्धि कर रहे हैं।सहारनपुर एक्सप्रेसवे अगले 1.2 वर्षों में पूरा हो जाएगाए जिसके परिणामस्वरूप दिल्ली से देहरादून 3 घंटे से भी कम समय तक पहुंच जाएगाए देवबंद और रुड़की रेल लाइन के माध्यम से सीधे जुड़े हुए हैं और यह काम केंद्र सरकार के आईएनआर 13000 करोड़ भारत योग पर शुरू हुआ है।विभिन्न उद्योगों को कुशल जनशक्ति प्रदान करने के लिए भारत में हमारी सबसे बड़ी पॉलिटेक्निक है।ऋषिकेश में एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन केंद्र प्रस्तावित किया गया है जिसके लिए 600 एकड़ जमीन पहले से ही ली जा चुकी है।अच्छे व्यापार वातावरण के साथ आयुर्वेद केंद्र और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र भी विकसित किए गए हैं।हमें फिल्म अनुकूल राज्य होने का प्रमाण पत्र भी मिला है जिसमें हाल ही में 46 फिल्मों को पहले से ही गोली मार दी गई है और हम फिल्म उद्योग के लोगों को इस संबंध को और विकसित करने के लिए आमंत्रित करते हैं

उत्तराखंड सरकार के मुख्य सचिव, श्री उत्पल कुमार सिंह ने कहा कि, ”एक नया राज्य होने के नाते उत्तराखंड में अनेक अज्ञात संभावनाएँ मौजूद हैं। राज्य में विविध कृषि-भौगोलिक जलवायविक परिस्थितियाँ हैं जो उभरते उद्यमियों के लिए विकास की बेशुमार संभावनाएँ मुहैया करती हैं। हमें दिल्ली के व्यावसायिक समाज से सहयोग करने और सामूहिक रूप से राज्य की समृद्ध औद्योगिक संभावनाओं का पता लगाने से अत्यंत प्रसन्नता मिलेगी।“

रोड शो के दौरान उद्योग जगत के लीडरों को संबांधित करते हुए उत्तराखंड सरकार के उद्योग विभाग की प्रमुख सचिव, श्रीमती मनीषा पवार ने कहा कि, ”अग्रसक्रिय एवं प्रगतिशील शासन संचालन के कारण उत्तराखंड राज्य एक मनपसंद निवेश गंतव्य के रूप में उभर रहा है। हमारा लक्ष्य इस राज्य को सभी स्वीकृतियों के लिए एक झंझटमुक्त ऑनलाइन सिंगल विंडो सिस्टम के साथ भारत में सर्वाधिक निवेशक-अनुकूल औद्योगिक आधार के रूप में विकसित करना है। हम समय पर आवेदनों के साथ-साथ पारदर्शी ढंग से आवश्य स्वीकृतियों के निपटारे का आश्वासन देते हैं।“

श्री दिलीप जावल्कर, सचिव, पर्यटन, उत्तराखंड सरकार ने राज्य में पर्यटन के क्षेत्र में निवेश के विभिन्न अवसरों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि, श्उत्तराखंड राज्य को प्राकृतिक सुंदरता पर गर्व है जिसे इसके साथ संपन्न किया गया है और हम मानते हैं कि यह श्पृथ्वी पर स्वर्गश् होने के करीब आता है। यह प्राकृतिक संसाधनोंए विशेष रूप से पानी और जंगलों में समृद्ध हैए जिसमें कई ग्लेशियरए नदियों और बर्फ से ढके पहाड़ के चोटी हैंए जो अपने सुंदर परिदृश्य के साथ सभी को मोहक बनाते हैं। राज्य में कई निवेश अवसर मौजूद हैं, जिनमें तहरी झील विकास मास्टरप्लान, ऋषिकेश में गंतव्य विकास, औली और मार्चुला रोपेवे के विकास संचालन और रखरखाव, खनिज नगर आदि में आतिथ्य विश्वविद्यालय का विकास शामिल है। इस क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिएए उत्तराखंड सरकार ने पर्यटन इकाइयों को उद्योग की स्थितिश् प्रदान की है और इस क्षेत्र के लिए समर्पित नीति को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है।

राज्य के विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रों में निवेश आकर्षित करने तथा समग्रतापूर्ण आर्थिक विकास में तेजी लाने के लिए उत्तराखंड सरकार ने नीतिगत मामलों में अनेक कदम उठाए हैं। औद्योगिक वातावरण को बेहतर बनाने और कारोबार के सहायक के रूप में कार्य करने के लिए राज्य एमएसएमइ नीति 2015 और बृहत् औद्योगिक एवं निवेश नीति 2015 के अलावा व्यावसायिक क्षेत्रवार समर्पित नीतियाँ प्रारूपित की गई हैं। सिंगल विंडो सिस्टम से सभी महत्वपूर्ण सेक्टर्स में स्वीकृति की प्रक्रिया सरल हो गई है।

दिल्ली के उभरते उद्यमियों के लिए उत्तराखंड का भौगोलिक फायदा है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से करीब होने और लगातार यातायात संपर्क की सुविधा के कारण उत्तराखंड के उद्योग आसानी से राजधानी क्षेत्र के महत्वपूर्ण उपभोक्ताओं की जरूरतें पूरी कर सकते हैं। राज्य के महत्वपूर्ण उद्योग अमृतसर-कोलकाता औद्योगिक गलियारे के प्रभाव क्षेत्र में स्थित हैं जो नए अवसरों के रास्ते खोलेगा। यहाँ उधम सिंह नगर, हरिद्वार, आदि में भारी संख्या में मौजूद अनुषंगी इकाइयों के साथ काफी पुराने और प्रतिष्ठित व्यावसायिक घरानों का एक सुस्थापित औद्योगिक आधार भी है। प्रमुख कंपनियों ने उत्तराखंड के सौहार्दपूर्ण कारोबारी माहौल को देखते हुए यहाँ अपनी इकाइयाँ स्थापित की हैं और अपने-अपने अत्याधुनिक परिचालन पद्धतियों से स्थानीय उत्पादन माहौल में प्राण फूँक रहे हैं।

डेस्टिनेशन उत्तराखंड : इन्वेस्टर्स समिट 2018

उत्तराखंड सरकार राज्य द्वारा चिन्हित 12 प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्रों से जुड़े सभी विभागों के समन्वय में 7-8 अक्टूबर, 2018 को देहरादून , ‘उत्तराखंड इन्वेस्टर्स समिट 2018’ का आयोजन कर रही है। उद्योग निदेशालय में स्थित निवेश संवर्धन एवं सुविधा केन्द्र आयोजन के सचिवालय के तौर पर काम कर रहा है। यह एक विशाल आयोजन होगा जिसमें वैश्विक व्यावसायिक पारितंत्र से निवेशकों, विनिर्माताओं, उत्पादकों, नीति निर्धारकों और संगठनों का समूह एकत्र होगा। इस समिट में, राज्य में औद्योगिक विकास की गति तेज करने के लिए मुख्य रूप से 12 फोकस सेक्टरों पर केंद्रण किया जायेगा जिनमें खाद्य प्रसंस्करण, बागवानी एवं फूलों की खेती, हर्बल एवं एरोमैटिक, पर्यटन एवं आतिथ्य, तंदुरुस्ती एवं आयुष, औषधि, ऑटोमोबाइल, कुदरती रेशे, सूचना प्रौद्योगिकी, अक्षय ऊर्जा, जैव प्रौद्योगिकी एवं फिल्म शूटिंग सम्मिलित हैं। इससे घरेलू और विदेशी दोनों तरह के निवेशकों को इन क्षेत्रों में निवेश एवं व्यापार के अवसर उपलब्ध होंगे।

समिट संबंधी विस्तृत जानकारी के लिए देखें : www.destinationuttarakhand.in

Leave a Reply