दिल्ली सरकार की 38 साल की सेवा के बाद 62 वर्ष की आयु में शिक्षाविद् दयानंद वत्स हुए सेवानिवृत्त लिया पांच छात्रों को गोद, उठाएंगे बारहवीं तक पूरा खर्च


दिल्ली के सुप्रसिद्ध शिक्षाविद् दयानंद वत्स आज शिक्षा निदेशालय, दिल्ली सरकार के जिला उत्तर पश्चिम ए के सर्वोदय बाल विद्यालय, प्रहलादपुर बांगर से 38 साल की सेवा और 62 साल पूर्ण होने पर लेक्चरर हिंदी के पद से सेवानिवृत्त हुए। वत्स ने सेवानिवृत्ति को कृतज्ञता ज्ञापन दिवस के रुप में आयोजित किया। इस अवसर पर विद्यालय के हजारों विद्यार्थियों ने नम आंखों से अपने लोकप्रिय शिक्षक को विदाई दी और उनकी दीर्घायु की कामना की। क्षेत्रीय निगम पार्षद श्री अमन कुमार, पद्मभूषण महाबली सतपाल पहलवान समारोह में मुख्य अतिथि थे। विश्वविद्यालय की विद्वत परिषद के सदस्य प्रोफेसर हंसराज सुमन, रोटरी क्लब दिल्ली अपटाउन के एस के.शर्मा, डाईट आर.के पुरम के पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. संजीव कुमार डॉ. के.एस यादव, राजकीय विद्यालय शिक्षक संघ के महासचिव श्री अजयवीर यादव, पूर्व परियोजना अधिकारी श्री चरण सिंह यादव, विद्यालय प्रबंधन समिति के उपाध्यक्ष श्री अनिल शर्मा और स्कूल के प्रधानाचार्य श्री वी.के शर्मा, प्रधानाचार्य डॉ. ओमवीर सिंह ढाका, श्री हरमेश कुमार सहित बडी संख्या में दिल्ली देहात के प्रहलादपुर बांगर, बरवाला, पूठखुर्द, बवाना, नरेला, नांगलोई, नजफगढ, द्वारका, अलीपुर, मुखर्जी नगर, पीतमपुरा, नरेला एवं पालम क्षेत्र से पधारे गणमान्य. लोगों ने दयानंद वत्स के विदाई समारोह में शिरकत की और एक स्वर से श्री वत्स द्वारा शिक्षा और समाजसेवा के क्षेत्र में की गई सेवाओं की सराहना की। वत्स ने आए हुए सभी अतिथियों को सम्मानित कर अपनी कृतज्ञता ज्ञापित की। इस अवसर पर दयानंद वत्स ने विद्यालय के पांच छात्रों जतिन सैनी, सुमित झा, अनवर, हेमंत और योगेश को बारहवीं कक्षा तक की पढाई में सहायता करने के लिए गोद लिया। इन सभी छात्रों को हर तरह की मदद वे करेंगे। दयानंद वत्स पिछले 40 सालों से सामाजिक सरोकारों से जुडे हैं।

Leave a Reply