देवभूमि के ऐतिहासिक महापुरुषों पुरुषों के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि का प्रतीक : महंत अजय पुरी  

अशोक कुमार निर्भय  हमारा देश संस्कृति प्रधान देश है। सांस्कृतिक धरोहर हमारे गौरवशाली इतिहास को आज भी देश दुनिया के सामने हमारा मस्तक ऊंचा करके सम्मान दिला रही है। हमारे देश …

गुजरात की अदालत में गुजराती नहीं

डॉ. वेदप्रताप वैदिक गुजरात के उच्च न्यायालय में भाषा के सवाल पर फिर विवाद खड़ा हो गया है। एक पत्रकार विशाल व्यास ने गुजराती में ज्यों ही बोलना शुरु …

वैंकय्या का साहस अनुकरणीय

डॉ. वेदप्रताप वैदिक पिछले हफ्ते जब कुछ हिंदू साधुओं ने घोर आपत्तिजनक भाषण दिए थे, तब मैंने लिखा था कि वे सरकार और हिंदुत्व, दोनों को कलंकित करने का …

महिला शिक्षा की अग्रदूत – माता सवित्रीबाई फूले !

सवित्री फूले एक महान दलित विद्वान, समाज सुधारक और देश की पहली महिला शिक्षिका, समाज सेविका, कवि और वंचितों की आवाज उठाने वाली सवित्रीबाई फूले का जन्‍म 3 जनवरी, …

नशाबंदी— जीवदयाः भारत बेमिसाल

डॉ. वेदप्रताप वैदिक आज दो खबरों ने मेरा ध्यान खींचा। एक तो काबुल में तालिबान सरकार ने तीन हजार लीटर शराब जब्त की और उसे प्रचारपूर्वक काबुल नदी में …

हमें अपने बच्चों को अच्छा और जिम्मेदार इन्सान बनाना है

(एस.एस.डोगरा) पत्रकार-लेखक मीडिया शिक्षाविद्द होने नाते मेरा व्यक्तिगत विचार है कि हमें रचनात्मक एवं सकारात्मक सोच के साथ प्रत्येक दिन कुछ न कुछ अवश्य करते रहना चाहिए | वैसे …

इत्र की बदबूः राष्ट्रीय शिष्टाचार

डॉ. वेदप्रताप वैदिक इत्र से कितनी बदबू फैल सकती है, यह दुनिया को पहली बार पता चला। कन्नौज के इत्रवाले दो जैन परिवारों पर पड़े छापों ने इत्र के …

डाकपाल सुरेन्द्र सिंह आर्य सेवानिवृत्त हुए

(रिपोर्ट:एस एस डोगरा छायाचित्र:आहन) ननई दिल्ली 2 जनवरी,2022: डाकपाल सुरेन्द्र सिंह आर्य गाँव बिलोनारूप, जिला बुलंदशहर, उत्तरप्रदेश के मूल निवासी भारतीय डाक विभाग में 37 वर्षों की लम्बी सरकारी …

संत क्यों करें हिंदुत्व की बदनामी?

डॉ. वेदप्रताप वैदिक देश के कुछ शहरों से ऐसे बयानों और घटनाओं की खबरें आज देखकर चिंता हुई कि जिन्हें सख्ती से नहीं रोका गया तो वे भारत में …

मेरे हमसफ़र ( भारत के सूत्रधार बहुरंगी साक्षात्कार)

समीक्षा – मेरे हमसफ़र ( भारत के सूत्रधार बहुरंगी साक्षात्कार) समीक्षक : प्रीति शर्मा असीम श्री एस.एस डोगरा जी की” मेरे हमसफ़र “पुस्तक विलक्षण प्रतिभाओं को एक सूत्र में …

उपभोक्ता अधिकारों पर चर्चा और श्रद्धांजलि सभा के साथ आजादी की अमृत गाथा का 37 वां आरजेएस वेबिनार संपन्न

भारत में उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 में आने और 2020 से लागू होने के बावजूद आज उपभोक्ता उपेक्षित क्यों है ? “उपभोक्ता-अपने अधिकारों को जानें” विषय को लेकर आजादी …