भारतीय भाषाओं को बचाने का समय : प्रो. द्विवेदी

‘पूरे विश्व में लगभग 6000 भाषाओं के होने का अनुमान है। भाषाशास्त्रियों की भविष्यवाणी है कि 21वीं सदी के अंत तक इनमें से केवल 200 भाषाएं जीवित बचेंगी और …

भारत से कुछ आगे है बांग्लादेश

डॉ. वेदप्रताप वैदिक हम भारतीय लोग अपने पड़ौसी देशों के बारे में सोचते हैं कि वे हम से बहुत पिछड़े हुए हैं। हमसे क्षेत्रफल और जनसंख्या में तो वे …

फिल्मी-जगत का गुस्सा

डॉ. वेदप्रताप वैदिक देश के 34 फिल्म-निर्माता संगठनों ने दो टीवी चैनलों और बेलगाम सोश्यल मीडिया के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में मुकदमा ठोक दिया है। इन संगठनों में …

भागवत का हिंदुत्व भी सर्वसमावेशी बन गया है

डॉ. वेदप्रताप वैदिक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का मुसलमानों के प्रति आजकल रवैया क्या है, इस प्रश्न पर बहस चल पड़ी है। बहस का मुख्य कारण संघ के मुखिया मोहन …

डा कलाम की जयंती की पूर्व संध्या पर आरजेएस फैमिली ने दी श्रद्धांजलि

पूर्वजों की स्मृति में देश के महापुरुषों का सम्मान आरजेएस की एक अनुठी परंपरा है। भारत रत्न और पद्म विभूषण से सम्मानित अवुल पकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम जिन्हें डॉ. …